रविवार, 15 सितंबर 2013

ईरान का सिनेमा - दूसरी कड़ी ----जफ़र पनाही

                                  जफ़र पनाही 


ईरानी फिल्मकारों पर चल रही इस श्रृंखला में पिछले सप्ताह हमने माजिद मजीदी पर बात की थी | अपने वादे के मुताबिक़ इस सप्ताह हम ईरानी-नई धारा के एक और महान फिल्मकार ‘जफ़र पनाही’ की फिल्मों को देखने-समझने की कोशिश करने जा रहे हैं | याद रहे कि यह कोशिश कोई अकादमिक कोशिश नहीं है , वरन बतौर दर्शक इन फिल्मों को देखने के दौरान उठने वाले विचारों की साझेदारी है | जाहिर है , आप इसमें अपनी राय को जोड़कर इसे और अधिक समृद्ध बना सकते हैं |

      

        तो सिताब दियारा ब्लॉग पर प्रस्तुत है ईरानी फिल्मकारों की श्रृंखला की दूसरी कड़ी
                                                 
                      

                      जफ़र पनाही

‘जफ़र पनाही’ का जन्म 1960 में हुआ था , और यही वह समय था , जब ईरानी सिनेमा में नई-धारा का पदार्पण भी हो रहा था | सेना की नौकरी से अलग होने के बाद, जब ‘पनाही’ का फिल्मों के साथ जुड़ाव शुरू हुआ , तो उन्हें इस नई-धारा के एक महान फिल्मकार ‘अब्बास किआरुस्तमी’ की शागिर्दी नसीब हुयी | ‘जफ़र’ ने उसे दोनों हाथों से बटोरा , और ‘किआरुस्तमी’ के काव्यात्मक – चित्रात्मक अंदाज को अपनाते हुए , उसमें अपनी खासियतों को भी जोड़ा | और ये खासियतें, मानवीय आधारों पर चलते हुए राजनीतिक सन्देश देने की कोशिश की थी | वे सीधे–सीधे ईरानी समाज के पास गए , और वहीँ से उन्होंने पात्रों को उठाया | न सिर्फ विषय-वस्तु के स्तर पर , वरन अभिनेता-अभिनेत्रियों को चुनने के आधार पर भी | मानवीय और यथार्थवादी आधारों पर अपनी फिल्मों को रखते हुए उन्होंने संवेदनशीलता का वह अद्भुत ताना-बाना बुना , जो आज ईरानी सिनेमा का नया आधार कहलाता है | यह अनायास नहीं है , कि उनकी फिल्मों में कोई खलनायक नहीं होता है , वरन उनकी उस समझ का विस्तार ही है , जिसमें वे मानते हैं कि मनुष्य स्वभावतः अच्छा प्राणी होता है | इसलिए उनकी फिल्मों में विपरीत से विपरीत परिस्थितियों में भी अच्छे आदमियों का उपस्थिति , इस उम्मीद के साथ सदा बनी रहती है , कि यह दुनिया एक न दिन जरुर बेहतर होगी | जैसा कि वे खुद कहते हैं कि “हम किसी को रुलाना नहीं चाहते , लेकिन साथ ही साथ हम अपने समाज से मुंह भी नहीं मोड़ सकते |”


1950 से 1979 तक अमेरिकी जकडबंदी और फिर 1979 के बाद धार्मिक दबावों के बीच विकसित होने वाले ईरानी सिनेमा की राह आसान तो कत्तई नहीं थी | लेकिन अच्छी बात यह हुयी , कि फ़िल्में उन दबावों के बीच से ही बनी , और खूब बनी | चूकि ऐसे दबावों और प्रतिबंधों के बीच वह सिने-अभिव्यक्ति के परम्परागत आधारों को नहीं अपना सकता था , इसलिए उसने वहां के जीवन और समाज को दिखाने के लिए वैकल्पिक तरीका अपनाया | विषय-वस्तु के रूप में ईरानी-सामान्य जनजीवन को चुना गया और पात्रों के रूप में बच्चों को | सेंसर बोर्ड से बचने के लिए अपनाए गए इस जरुरी तरीके की सफलता इस बात पर निर्भर करती थी , कि उसे संवेदनशीलता के उच्चतम स्तर पर ले जाया जाए | ईरानी फिल्कारों ने यह काम बखूबी किया | वे इस तथ्य से परिचित थे , कि उनका थोड़ा भी राजनीतिक होना , ईरानी सत्ता-प्रतिष्ठान को नागवार गुजरेगा , और वह उनपर अपना चाबुक चला देगा |


मसलन ‘जफ़र पनाही’ के उदाहारण से हमें यह भान हो सकता है , कि ईरानी सिनेमा ने किन कोनें-अंतरों में रहते हुए यह काम किया है | जब तक ‘जफ़र’ लघु-फ़िल्में बनाते रहे , या ‘THE WHITE BALLOON’ और ‘THE MIRROR’ जैसी गैर-राजनीतिक फ़िल्में , तब तक तो वे सुरक्षित रहे , लेकिन जैसे ही उन्होंने ‘THE CIRCLE’ और ‘OFFSIDE’ जैसी फिल्म बनाने की सोची , वे सत्ता-प्रतिष्ठान की आँखों में चुभने लगे | उनकी फिल्मों को, न सिर्फ ईरान में प्रतिबंधित कर दिया गया , वरन मार्च 2010 में उन्हें गिरफ्तार भी कर लिया गया | उन पर ‘राष्ट्रीय-सुरक्षा के लिए खतरा’ होने का आरोप लगाया गया , और 6 साल के जेल की सजा सुना दी गयी | इतना ही नहीं , उन्हें 20 वर्षों के लिए फिल्म बनाने से प्रतिबंधित भी कर दिया गया | वर्तमान में उनका मुकदमा अपील के स्तर पर है , और किसी भी समय उन्हें अभिव्यक्ति की कीमत चुकानी पड़ सकती है |


इस पृष्ठभूमि को जान लेने के बाद ईरान और ख़ास-तौर पर ‘जफ़र पनाही’ की फिल्मों पर बात करना थोड़ा आसान हो जाता है |

                     
               द व्हाइट बैलून ........   (the white balloon )


‘जफ़र पनाही’ द्वारा निर्देशित इस पहली फिल्म में , एक मजबूत ईरादों वाली छोटी बच्ची ‘रेजिया’ के संघर्ष को दिखाया गया है , जो नए साल पर अपने लिए ‘लकी गोल्ड फिश’ खरीदना चाहती है | इसके लिए वह अपनी माँ से जिद करती है , और पैसे भी ले लेती है | परिथितियाँ कुछ ऐसी बनती हैं , कि उसका 500 तोमर (ईरानी मुद्रा) का वह नोट , एक ऎसी सूखी हुयी नाली में गिर जाता है , जिसके ऊपर से लोहे की ग्रिल चढ़ा हुआ है | हालाकि फिल्म उस पैसे को पाने के लिए किये जाने वाले ‘रेजिया’ के संघर्ष के ‘इर्द-गिर्द’ ही चलती है , लेकिन इसके बीच में वह ईरानी समाज भी आता है , जिसके बीच यह सब घटित हो रहा है | इस फिल्म में कोई खलनायक नहीं है , वरन खलनायक दिख रहे लोगों के बीच से पैदा हुए अच्छे लोगों की श्रृंखला है | दुखों और परेशानियों के बीच हास्य पैदा कर देना , और फिर उसे समाज से जोड़ देना ही ‘जफ़र पनाही’ की ताकत है , और उन्होंने इस फिल्म में यह काम बखूबी किया है | फिल्म पूरी तरह से हमारी सहानुभूति को उस बच्ची के साथ जोड़ देती है , और उसके साथ-साथ हम भी जीवन के खूबसूरत पलों को जीते चलते हैं , जिसने उसे अपने संघर्षो से पैदा किया है |
                        


                   

               ‘ द मिरर ’        ( the mirror )



जफ़र पनाही की यह फिल्म भी फिल्म ईरानी समाज के बिलकुल बीचोबीच से गुजरते हुए आगे बढती है | यह फिल्म एक ऐसी बच्ची को केंद्र में रखकर बनायीं गयी है , जो स्कूल की छुट्टी के बाद अपनी माँ के नहीं पहुँचने के कारण अकेले ही अपने घर की तरफ निकल पड़ती है | हर कोई अपने सामर्थ्य के अनुसार , घर पहुँचने में उसकी मदद भी करता है , लेकिन परिस्थितियां कुछ ऐसी बनती हैं , कि वह लगातार भटकती फिरती है | फिल्म उस समय मोड़ अख्तियार करती है , जब यह पता चलता है , कि उसकी इस भटकन को फिल्मांकित भी किया जा रहा है | अंत में तंग आकर वह बच्ची उस फिल्मांकन से इनकार कर देती है |  इसकी खूबी यह बताने में है , कि जीवन की वास्तविकताएं , उनकी कल्पनाओं से पृथक नहीं होती हैं |



                
                  ‘ द सर्किल ’   ( the circle )



यह फिल्म ईरानी समाज में महिलाओं की स्थिति को छोटी-छोटी अपूर्ण कहानियों के माध्यम से व्यक्त करती है | ये ऐसी कहानियाँ हैं , जिनकी न तो पृष्ठभूमि का खुलासा किया गया है , और न ही जिनका अंत सामने आ पाता है | इन दोनों को सुधि-दर्शकों के विवेक पर छोड़ दिया गया है | इन कहानियों की खासियत यह है , कि ये किसी न किसी स्तर पर एक दूसरे से उसी प्रकार से जुडती दिखाई देती हैं , जिस स्तर पर ईरानी समाज में महिलाओं की परेशानियां और दिक्कतें अलग-अलग होते हुए भी कहीं न कहीं एक साथ जुडी हुयी मिलती हैं | महिलाओं को केंद्र में रखकर बनायी गयी यह फिल्म एक तरह से राजनीतिक सचेतता के साथ अपनी बात को आगे रखती है , जो ईरानी सत्ता-प्रतिष्ठान के चुभने वाला साबित होता है | फिल्म ‘जफ़र पनाही’ की उस समझ को विस्तार देती है , जिसमें वे मानते हैं , कि समाज में अच्छे-भले लोगों की कोई कमी नहीं हैं | यदि यह व्यवस्था उन अच्छे लोगों की मदद करे , तो कुल मिलाकर यह समाज और उसका यह जीवन बहुत खुबसूरत बन सकता है |


                   
                  ‘ आफ साइड ’  ...........    ( offside )



जफ़र पनाही की यह फिल्म ‘OFFSIDE’ ईरान में सबसे अधिक देखी जाने वाली फिल्मों में से एक है , और मेरी दृष्टि में राजनीतिक रूप से सर्वाधिक सचेत भी | फिल्म ईरानी समाज में औरतों की दोयम दर्जे वाली स्थिति को कई तरीकों से प्रश्नांकित करती है , और सामान्य जीवन से उठाये गए पात्रों के सहारे वहां के समाज को मथ देती है | फिल्म में दिखाया गया है , कि ‘ईरान’ विश्व कप फ़ुटबाल के मुख्य चरण में पहुँचने के लिए ‘बहरीन’ के साथ अपनी राजधानी ‘तेहरान’ के ‘आजादी स्टेडियम’ में अपना मैच खेल रहा होता है , और पूरा देश दम साधे उस ओर नजर गड़ाये हुए है | इसमें वहाँ की महिलायें भी शामिल हैं , जिन्हें ईरानी शरीयत क़ानून के तहत स्टेडियम में जाकर मैच देखने की ईजाजत नहीं है | कुछ उत्साही लड़कियाँ पुरुषों के वेश में स्टेडियम में जाने का प्रयास करती हैं , और पकड़ी जाती हैं | उन्हें उसी स्टेडियम के बाहर गिरफ्तार करके रखा जाता है , जिसके भीतर यह मैच चल रहा होता है | जैसे–जैसे परिस्थितियाँ आगे बढती हैं , ईरानी समाज की कलई भी खुलने लगती है | इसमें कुछ दृश्य ऐसे भी हैं , जिनसे धर्म-आधारित समाजों के भीतर जमा होने वाली कुंठा और गंदगी की मात्रा की जानकारी मिलती है | यह फिल्म फ़ुटबाल के मैच में करार दिए जाने वाले ‘OFFSIDE’ को एक रूपक के तौर पर दर्शाती है , और यह रूपक ईरानी समाज में महिलाओं की स्थिति का द्योतक बन जाता है | फिल्म स्त्रियों की उस ईच्छा के साथ समाप्त होती है , जिसमें वे कहती हैं , कि ‘अब हम offside नहीं होना चाहते |’


इन फिल्मों के अलावा ‘CRIMSON GOLD’ , ‘THIS IS NOT A FILM’ और  ‘CLOSED CURTAIN’ जैसी फ़िल्में भी जफ़र पनाही के खाते में हैं , और चाहें तो आप उनका भी आनंद ले सकते हैं | रही बात सच बोलने की कीमत चुकाने की , तो ऎसी कीमत सिर्फ जफ़र पनाही ने ही नहीं चुकायी है , और न ही ईरान वह अकेला देश है , जो इस तरह की कीमत को वसूल रहा है | अपने आपको लोकतांत्रिक और आधुनिक कहे जाने मुल्कों में भी ऐसी कीमते वसूली जाती रही हैं | इसलिए मैं उनकी लम्बी फेहरिश्त देकर आपका समय बर्बाद नहीं करना चाहता , लेकिन इतना जरुर कहना चाहता हूँ , कि मनुष्य के भीतर अपने आपको अभिव्यक्त करने की यही छटपटाहट उसे समाज में रूप में इकठ्ठा करती है , और प्रकारांतर से उसे आदमी भी बनाती है | इतिहास इसका गवाह है , कि प्रतिबंधो के बावजूद भी वही आदमी और वही समाज जिंदा बचा रह जाता है , जो ऐसे खतरों को उठाने की कोशिश करता रहता है | जबकि ऐसी तमाम व्यवस्थाएं उसके कूड़ेदानों में बिला जाती है , जो उन कोशिशों पर तलवार भांजती रहती हैं |


ऐसे विपरीत परिस्थितियों में काम करते हुए ‘जफ़र पनाही’ ने न सिर्फ ईरानी-सिनेमा को नई दिशा प्रदान की है , वरन उनका प्रभाव दुनिया भर में महसूस किया जाता है | अगली कड़ी में हम ईरान के सर्वाधिक महत्वपूर्ण फिल्मकारों में से एक ‘अब्बास किआरुस्तमी’ की फिल्मों के बारे में चर्चा करेंगे |  


तब तक के लिए विदा ...................................




प्रस्तुतकर्ता

रामजी तिवारी
बलिया , उ.प्र.
मो न. - 09450546312   



                                   
     

  

1 टिप्पणी:

  1. आपने जफ़र पनाही की फिल्मों के बारे में बहुत उपयोगी जानकारी दी है.आपके लेखों से विश्व सिनेमा को समझने में बहुत मदद मिलती है.मैंने इस फिल्म के कुछ भाग देखे .यह ईरान में औरतों के जीवन कि सच्चाई व्यक्त करती है.

    उत्तर देंहटाएं