बुधवार, 14 नवंबर 2012

औरंगजेब का मंदिर - केशव तिवारी


                                   केशव तिवारी 


साहित्य, किसी ‘अंधे’ या ‘गए से गए’ दौर में से भी अपने लिए कुछ रोशनियाँ चुन ही लेता है | यहाँ तक कि , उस दौर से भी , जिसमें सभी धारायें – वे चाहें मुख्य हों या गौड़ - विध्वंसकारी दिशा में ही बहती दिखाई देती हों | मसलन , ‘केशव तिवारी’ की इस कविता को देखिये | मुग़ल काल के जिस दौर में अन्य धर्मावलम्बियों के पूजा स्थलों को तोड़ने के ‘फरमान’ और ‘आदेश’ सर्वत्र दिखाई देते हैं , उसी दौर में से यह कविता ( औरंगजेब का मंदिर) , किसी मंदिर के निर्माण और उसे सहायता देने का एक विस्मयकारी ‘फरमान’ ढूंढ लाती है | इसी कविता को केंद्र में रखकर हिंदी के प्रख्यात आलोचक ‘अजय तिवारी’ ने यह लेख लिखा है , जिसमे इस कविता के लिखे जाने की स्थितियों के साथ-साथ , उसके भविष्यकालीन महत्व का रेखांकन भी दर्ज है |

     तो प्रस्तुत है सिताब दियारा ब्लाग पर प्रख्यात आलोचक अजय तिवारी का यह लेख   

                    
                    ‘औरंगजेब का मंदिर’

जी हाँ , यह उलटबांसी नहीं है |

पंद्रह बरस पुरानी बात होगी | तब केदारनाथ अग्रवाल जीवित थे | बांदा में हर साल उनके जन्मदिन पर आयोजन होता था | पहली अप्रैल के उस सम्मान समारोह में मैं शायद एक दशक बाद गया था | सन 1986 में सम्मान :केदारनाथ अग्रवाल  का एक भव्य समारोह हुआ था | उसके बाद कई बरस तक बांदा जाने का सुयोग नहीं हुआ था | लेकिन बांदा-वासियों ने यह सिलसिला टूटने नहीं दिया | आखिर 1997 में आयोजकों की और उससे अधिक केदार की ईच्छा का सम्मान करते हुए वहां जाना अनिवार्य हो गया | दिल्ली से हमारे आत्मीय नीरज कुमार और कवयित्री निर्मला गर्ग ने भी केदार के प्रति अपने सहज आदर भाव के कारण जाने का निर्णय किया था |

केदार पर आयोजन और वह भी बांदा में , उसे सजीव और महत्वपूर्ण होना ही था | उससे ज्यादा महत्वपूर्ण था बांदा वासी कवि-मित्र केशव तिवारी का आग्रह कि चित्रकूट दर्शन कर लीजिये | यह कैफियत जरुरी नहीं है , कि आस्थावान केशव भी नहीं हैं | लेकिन तुलसीदास और बाल्मीकि का रमणीय प्रदेश , सुन्दर प्रकृति और गुप्त गोदावरी की रोमांचक गुफा , सच पूछिए तो एक दिन चित्रकूट के लिए कम पड़ता था | धार्मिक-स्थलों पर पर्यटन के लिए जाना दिलचस्प होता है |

फिर भी इस अत्यल्प समय में भी सार्थकता का विचित्र-बोध हुआ | दिन रामनवमी का था | मंदिरों में काफी भीड़भाड़ थी | एक मंदिर काफी पुराना सा , कुछ अलग-थलग और बिलकुल खाली सा था | अन्दर जाकर देखा तो ‘प्रसाद’ की तैयारी थी , लेकिन प्रसाद ग्रहण करने वाले भक्त नहीं थे | हम सबने तय किया कि यहीं प्रसाद ग्रहण करेंगे |

पुजारियों से बातचीत में पता चला तो आश्चर्य का ठिकाना न रहा , कि यह मंदिर मुग़ल शासक औरंगजेब का बनवाया हुआ है |

एक फ्रेम में औरंगजेब का शाही फरमान मढ़ा हुआ सुरक्षित है , जिस पर अंग्रेजी राज्य में खास कार्यवायी नहीं हुयी | आजादी के बाद कुछ सरकारी सहायता मिली , लेकिन अपर्याप्त | मुग़ल शासन के बाद इस मंदिर के अच्छे दिन नहीं लौटे |

संभवतः हिंदी अकादमी , दिल्ली से प्रकाशित ‘औरंगजेब के फरमान’ (संपादक: डा.विश्वम्भर नाथ पाण्डेय ) में यह दस्तावेज मौजूद हो | मैं इसकी पुष्टि नहीं कर सका हूँ |

जिन्हें पता है , वे जानकार उस ओर जाते नहीं , कि औरंगजेब का (बनवाया) मंदिर है , और प्रान्त या केंद्र की सरकारें विशेष मदद करती नहीं | हमारे लिए यह जानकारी दिलचस्प और विचारोत्तेजक थी | उतना ही विचित्र था यह अनुभव कि चित्रकूट में स्थित एक मंदिर कितना उपेक्षित हो सकता है , उसके पुजारी और महंथ कितने बेचारे हो सकते हैं |

बांदा से चित्रकूट की यात्रा में आते और जाते हुए केशव तिवारी ने कुछ दूसरों की और बहुत सी अपनी कवितायें सुनायी | उन पर चर्चा हुयी | खास तौर पर जो बातें मुझे कम पसंद थीं मैंने केशव को बतायी | उन्हें अच्छा न भी लगा हो , तो भी उन्होंने जाहिर नहीं किया | कविता की प्रवृत्तियों पर बातचीत होती रही | केशव भी तीव्र पसंद-नापसंद वाले व्यक्ति हैं | कविता की उनकी अपनी धारणाएं हैं , जिनसे हमेशा सहमत होना कठिन है | खासकर ‘लोक’ को लेकर कुछ आत्यंतिक आग्रह मुझे नहीं जंचता | ‘लोक’ आज की कविता में बहुत कुछ भावुकता का क्षेत्र बन गया है | फिर भी केशव की धारणाओं से अलग , उनकी कवितायें मुझे पसंद हैं | वे लोक को शरणस्थली कम ही बनाते हैं  - आग्रह चाहे जैसा भी हो |

अभी हाल में उन्होंने फोन पर एक कविता सुनायी -- ‘औरंगजेब का मंदिर’ | इतने दिनों बाद उस यात्रा की स्मृति सजीव हो आयी | अवश्य केशव ने अपने भीतर उस यात्रा की स्मृति को संजो रखा था | इससे एक कवि की मनोरचना का परिचय मिलता है | शुक्ल जी कहते थे , कि केवन के मार्मिक स्थलों की पहचान कवि की शक्ति होती है |

कविता ठीक-ठाक थी | बस , ठीक-ठाक | मैंने कुछ सुझाव दिए | केशव ने कविता फिर से लिखी | उन्हें अपनी कविता से प्रेम तो है , लेकिन मोह नहीं , वरना उनके जैसा जिद्दी आदमी किसी आलोचक के कहने पर कविता सुधारने को राजी हो , यह मुश्किल है | आखिरकार चौथे प्रारूप के बाद उन्होंने हथियार दाल दिए , कि मेरे बस का और नहीं है ; जितना टटोलकर स्मृतियों से निकाल सकता था , वह लिख दिया | यों , इसके बाद कविता में ‘और’ होना आवश्यक था – कम-से-कम केशव की रचना प्रवृत्ति को देखते हुए | बहरहाल कविता इस प्रकार है -------
                            

औरंगजेब का मंदिर

(बाला जी का मंदिर)

मुग़ल बादशाह 'औरंगजेब'
यहाँ नहीं उमड़ती श्रद्धालुओं की भीड़             
जह जुजबी ही भटक आते हैं इधर
जबकि एक रास्ता इधर से भी जाता है

एक बूढा पुजारी कपड़े में
लपेटे आलमगीर का फरमान
संदूकची में समेटे है
बड़े जतन से
इस बात का सबूत –
जिसे तारीख
जालिम कह नजीर देती है
उसका दिया भी कभी-न-कभी
धड़कता था दूसरों के लिए भी

महंथों मठाधीशों के बीच
परित्यक्त यह बूढा
यहाँ आपको बिना जात-पात पूछे
मिल सकता है उपलब्ध भोजन
आप छहाँ सकते हैं
इस पुरनिया पेड़ की छाँह में |

औरंगजेब द्वारा बनवाया मंदिर 
सैकड़ों साल पुरानी                       
मंदिर की दीवारों पर
टिका सकते हैं पीठ

गीता वेद रामायन श्रुतियों के साथ
एक साधु
लिए बैठा है एक बुतशिकन
बादशाह का फरमान

इतिहास की मोटी-मोटी किताबों में
तरह-तरह के मंतव्यों के बीच
यह पंद्रह लाईन का एक
अदना-सा-फरमान
तमाम धार्मिक उद्घोषों
जयकारों के बीच
धर्म और इतिहास के मुहाने से
पुकारती एक आवाज
तमाम ध्वंसावशेषों से क्षमा मांगती...   

कोई सुने तो रूककर     
एक आवाज यह भी है |                        


फरमान दिखाते पुजारी 




बिलकुल सच्चा वर्णन है | तथ्यपूर्ण और भावपूर्ण | मंदिर के भीतरी परिवेश के चित्रण में जरुर कोताही की गयी है | विवरणों को लिखकर रखने की आदत कवियों में जरा कम ही होती है | वे स्मृतियों और प्रभावों से काम चला लेते हैं | इस मंदिर के जो अनुभव थे , यदि उनसे भीतरी वातावरण का चित्र कुछ और समृद्ध होता , तो बेशक , अवसाद थोडा गहरा होता , लेकिन विडंबना का बोध अधिक तीव्र होता | केशव अवसाद से ज्यादे जीवन-उल्लास के कवि हैं | केदार के प्रभाव और केशव की ‘लोक’ चेतना का यह अपना संश्लेष है | फिर भी मुझे संतोष है , कि केशव ने एक नयी दिशा में प्रवेश किया |       

शायद इतनी शिद्दत से विडम्बना के उद्घाटन में केशव पहली बार लगे हैं | विडंबना वर्तमान तथ्य और ऐतिहासिक परंपरा , दोनों स्तरों पर है | ‘एक रास्ता इधर से भी जाता है’ – यह मानो कविता का मूल स्वर है | यह रास्ता अतीत और वर्तमान दोनों सन्दर्भों में एक विकल्प है | मुखर सन्देश के बजाय गहरे विश्वास से केशव को यह स्वर मिला है | इसे ध्यान में रखिये , तब मालूम होगा कि विडंबना कवि की किस करुणा से उपजी है | मंदिर का महंथ घृणा और आलोचना का पात्र होता है ; लेकिन ‘यह बूढा’ अपने मंदिर की ही तरह परित्यक्त है | आलोचना का विषय दयनीयता का विषय बन गया है | दूसरी तरफ इस मंदिर का निर्माण उस शासक ने किया था . जिसकी ख्याति मंदिर तोड़ने के लिए थी | ‘एक बुतशिकन बादशाह’ ! इस प्रकार , दोहरी विडंबना से केशव ने इस कविता का भावनात्मक ढांचा निर्मित किया है |

बद्ध संस्कार केवल वर्तमान के नहीं होते , अतीत के भी होते हैं | केशव दोनों तरह की जड़ता से लड़ते हैं | उत्तर-आधुनिक पदावली में कहें तो वे दोनों प्रकार की जड़ताओं का विखंडन करते हैं | लेकिन उत्तर-आधुनिकों की भाँति विखंडन करके इति नहीं समझ लेते | उनकी दृष्टि गंभीर अर्थ में राजनीतिक है | अच्छी बात यह है कि राजनीति यहाँ सतह पर नहीं है | इससे कविता का आतंरिक ढांचा सुरक्षित रहता है | यह भावावेश का ऐसा विषय भी नहीं है , न ऐसा क्षण ही है , कि कविता के ढाँचे को तोड़ा जाए | विषय यह मांग नहीं करता कि नागार्जुन-केदार जैसी प्रत्यक्ष राजनीतिक शैली अपनाई जाए , और केशव की रचना-प्रवृत्ति भी सीधी राजनीतिक अभिव्यक्ति के अनुरूप नहीं है | फिर भी , ‘एक आवाज यह भी है’ , कवि का यह विनम्र स्वर सांप्रदायिक राजनीति के कोलाहल को ध्वस्त कर डालता है | यह मिथ्या पर आधारित वैमनस्यपूर्ण राजनीति का , साम्प्रदायिक उद्देश्यों के लिए इतिहास के उपयोग की कुटिलता का दृढ प्रतिवाद है |

उल्लेखनीय है कि यह प्रतिवाद अनायास अथवा आरोपित नहीं है | कवि परस्पर-विरोधी तथ्यों को आमने –सामने रखता है | ‘इतिहास की मोटी-मोटी किताबों’ और ‘तरह तरह के मंतव्यों’ के समानांतर सिर्फ ‘पंद्रह लाइनों का एक अदना-सा फरमान’ है , जो पूरी ताकत से डट जाता है | इस फरमान में औरंगजेब का यह ऐलान है कि शाही खजाने से बालाजी के इस मंदिर को हमेशा-हमेशा नियमित मदद की जाती रहेगी | एक विडम्बना यह भी है , कि हमेशा-हमेशा के लिए खुद शहंशाह भी न रह पाए , मदद की बात तो दूर रही !

कवि ही यह योग्यता रखता है , कि बद्ध संस्कारों और आग्रहों से मुक्त रहकर प्रचार से ढकें सत्य को उभारे | औरंगजेब एक जालिम शासक था , लेकिन मनुष्य भी था | केशव देखते हैं कि जालिम कहे गए शख्श का ‘दिल कभी-न-कभी धड़कता था दूसरों के लिए’ | महानायक या खलनायक बनाने की जगह मानुष के रूप में देखना कवि का काम है |

संभव है , अगर यह मंदिर भी दूसरे मंदिरों की तरह मुसलमान शासक से न जुड़ा होता तो , यहाँ भी ‘ बिना जात-पात पूछे’ सबको खाना न मिलता | पुजारी और महंथ अपनी परिचित छवि में नहीं हैं | धार्मिक या सांप्रदायिक अलगाव के साथ-साथ बिरादरी वाद का अलगाव भी है | कविता दोनों प्रश्नों से टकराती है | अतीत और वर्तमान , जाति और धर्म इनके जटिल प्रसंगों को केशव ने साधे हुए संकेतों में व्यक्त कर दिया है | ‘लोक’ चेतना वाली बहुत-सी समकालीन कविता का आंतरिक फलक इतना व्यापक नहीं होता | खुद केशव की बहुत सी कवितायें इतनी संश्लिष्ट अभिव्यक्ति नहीं कर पाती | भावुकता और यथार्थ – दृष्टि में यह अंतर है |

इतिहास में एक सजीव शक्ति है | यह बात अगर विद्वेष का प्रचार देखकर समझा जा सकता है , तो उस प्रचार का प्रतिवाद भी इतिहास के जरिये किया जा सकता है , इस बात को केशव की यह कविता समझा देती है | केशव ने इतिहास को वर्तमान में पकड़ा है | इसलिए कविता में इतिहास एक निरंतरता और विडंबना के रूप में द्वंद्वात्मक रूप में आया है | ‘सैकड़ों साल पुरानी मंदिर की दीवारों पर टिका सकते हैं पीठ’ – यहाँ पुरानापन मृत नहीं है ; बल्कि मरती परिपाटियों का अस्वीकार है | निरंतरता इस बात में कि जाति – धर्म से परे संस्कृत का एक समावेशी रूप है , भले ही वह आज उपेक्षित हो ; विडंबना इस बात में कि बादशाह के रहने पर जो मंदिर धन धन्य और आगंतुकों से भरा रहता , वह आज वीरान है | यह हमारे समय पर एक टिप्पड़ी भी है |


                                                                        'नया ज्ञानोदय' के नवम्बर-2012 अंक से साभार 

                                                  
परिचय और संपर्क

अजय तिवारी 
लेखक अजय तिवारी हिंदी के प्रख्यात आलोचक हैं       
बी- 30 , श्रीराम अपार्टमेंट्स
32 / 4 , द्वारिका , नयी दिल्ली , 110078
मो.न. – 09717170693 














17 टिप्‍पणियां:

  1. भूत और भविष्य अलग नहीं होते, वह वर्तमान के आगे पीछे जुड़े होते हैं . अतीत को लेकर, वर्तमान में साम्प्रदायिक शक्तियाँ अतीत की मनचाही व्याख्या कर 'तमाम धार्मिक उदघोषों ' 'जयकारों' से लोगों में उत्तेजना भर, भविष्य का हिन्दुत्ववादी एजेंडा फलीभूत करना चाहती हैं। इस विचार ने अपने फलने-फूलने के लिए नागरीय क्षेत्र को अपना मुख्य केंद्र बनाया है। जहाँ 'हेरा-फेरीवाला पूंजीवाद' ( डा . रामविलास शर्मा ) वर्चस्ववादी शक्तियों और 'महंथों मठाधीशों ' द्वारा धर्म व संस्कृति के सन्दर्भ में तमाम तरह की जड़ता को स्थापित कर अपना उल्लू सीधा करना चाहता है।
    हिन्दुत्ववादी विचार मुगलकाल को सबसे ज्यादा निशाना बनाता है कि इस दौर में हिन्दू नामक कौम का सबसे ज्यादा उत्पीड़न हुआ। .... औरंगजेब का नाम प्रमुख रूप से आता है।
    कवि भी कहता है 'जिसे तारीख जालिम कह कर नजीर देती है '

    लेकिन कवि बहुत सचेत है। जब यह कविता उनके अंदर निर्माण ग्रहण कर रही होगी. उपरोक्त इन तमाम तथ्यों से वे वाकिफ होंगे। उनका कविता कुम्भकार संघर्ष कर रहा होगा ' इतिहास की मोटे-मोटी किताबों में' 'तरह तरह के मंतव्यों के बीच' और फिर ' पन्द्रह लाइन का एक अदना-सा फरमान', 'औरंगजेब का मंदिर' कविता रूप में नजीर बन प्रस्तुत हो गया-
    ' एक रास्ता इधर से भी जाता है ' एक सफ़ा खुलता है ' एक बूढा पुजारी कपडे में लपेटे आलमगीर का फरमान'
    'औरंगजेब' और 'मंदिर' जन की चेतना में बसे दो परस्पर विरोध, एक ही लड़ी में पिरोए -'औरंगजेब का मंदिर' असंभव सी बात है।
    लेकिन कवि ने इसे एक रास्ता बनाया है ...इतिहास का एक और पन्ना खोजा है , उसे अपने ज्ञानात्मक संवेदन से खोला है , जो नागरीय व्यवस्था से दूर लोक में जीवित है
    कि एक जालिम भी मनुष्य था ' उसका दिया भी कभी-न-कभी\धड़कता था दूसरों के लिए भी' . यहाँ वह 'सैंकड़ों साल पुरानी' शक्ति है परम्परा की, जहां आप वर्तमान की हारी 'पीठ' को 'टिका सकते हैं' भविष्य के लिए एक रास्ता , एक सुझाव ..
    समाज में साम्प्रदायिकता का ज़हर फैलाती ताकतों के खिलाफ 'पुकारती एक आवाज़ तमाम ध्वंसावशेषों से क्षमा मांगती ....'
    लोक के प्रति कवि का लगाव है, इस कविता में भी है , गहराई के साथ है ' कोइ सुने तो रूककर एक आवाज़ यह भी है'. किसी रोमान से दूर 'एक बूढ़ा पुजारी '..' गीता वेद रामायन श्रुतियों के साथ ' एक साधु ' '...पुरनिया पेड़ की छांह में'
    तमाम रहस्यों से दूर लोक का वह मंगलकारी रूप है ' यहाँ आपको बिना जात-पाँत पूछे' 'मिल सकता है उपलब्ध भोजन '
    समाज के व्यापक निर्माण में अपनी समझ के लोकतांत्रिक तंतुओं में ' धर्म और इतिहास के मुहाने से ' रचा बसा है कवि -
    ' क्योंकि मनुष्य का इतिहास उत्पीडन का इतिहास नहीं , आज़ादी का इतिहास होता है' -एजाज अहमद ( सर्जनशीलता हमेशा सामाजिक होती है )

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह मुझे सिर्फ़ मंदिर पर लिखी कविता लगी, जिसे एक कुख्‍यात राजा ने बनवाया था... कवि का काम ऐतिहासिक विषय पर कविता लिखते हुए इतिहास के साथ न्‍याय करना भी होना चाहिये... संभव है केशव जी ने इतिहास के बजाय सिर्फ़ वर्तमान पर ही केंद्रित कर इस कविता को रचा हो। इसलिये कविता इसी रूप में आई हो... अगर मैं यह मंदिर देख सका कभी तो इस पर ज़रूर लिखना चाहूंगा... केशव जी को बधाई कि एक अछूते विषय को इतिहास से निकालकर कविता के वर्तमान में संभव किया..

    उत्तर देंहटाएं
  3. केशव भाई की बेहतरीन कविताओं में से एक कविता है यह जो इतिहास को तमाम आग्रहों-पूर्वाग्रहों से हटकर देखने की अपील करती है . दरअसल बहुत-सारे समय हम व्यक्तियों,चीजो और घटनाओं को एकतरफा नजरिये से देखते है फलस्वरूप गलत निष्कर्षों पर पहुँच जाते हैं जबकि हमारे सामने अनेक रस्ते पड़े होते हैं जिन पर भी हमें नजर डालनी चाहिए. इतिहास भी इसका अपवाद नहीं है.लोक का देखने का तरीका यही होता है.कविता को खोलते हुए आलोचक ने बहुत सारा अच्छा-अच्छा कहा है जिससे किसी की कोई असहमति नहीं हो सकती है . कवि की तारीफ भी की है पर उसकी लोक की अवधारना को कटघरे में खड़ा कर एक तीर से दो शिकार करने की कोशिश भी की गयी है . क्या हम किसी कवि की रचनाशीलता को उसकी अवधारणा से काटकर मूल्यांकित कर सकते हैं? यदि अवधारना गलत है तो रचना कैसे ठीक हो सकती है?
    लोक के प्रति यह आलोचक का गैरजिम्मेदाराना व्यवहार है.इस पर खुलकर बात होनी चाहिए थी.आखिर लोक के प्रति कवि के आत्यंतिक आग्रह क्या हैं जिनसे आलोचक की असहमति है .
    इस टिपण्णी को पढ़ते हुए आलोचक की इस बात पर भी थोडा आश्चर्य हुआ कि शायद इतनी शिद्दत से विडम्बना के उद्द्घातन में केशव पहली बार लगे हैं. ऐसा वही कह सकता है जिसने उनकी अन्य कविताओं को नहीं पढ़ा हो . केशव तिवारी की अनेकानेक कवितायेँ ऐसी हैं जो अपने समय और समाज की विडम्बनाओं का उद्द्घातन करती हैं. ऐसा कहना उनको कम आकाना है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सोचना पड़ गया
    ...
    दोबारा पढ़ना होगा

    उत्तर देंहटाएं
  5. कह तो सब अजय तिवारी जी ने दिया ही है. मैं बस इस काम के लिए केशव भाई को सलाम करता हूँ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी कविता ! सांप्रदायिक विद्वेष के नशे में चूर लोगों को एक झटका देती हुई !बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  7. अजय ने कविता के आगे-पीछे कविता के बारे में इतना कह दिया है कि किसी बड़ी टिप्पणी की दरकार नहीं है. हां, केशव को कवि के रूप में यह श्रेय जाना ही चाहिए कि उन्होंने इतिहास की राख के नीचे दबे इस तथ्य को अपनी कविता का विषय बनाकर ऐतिहासिक महत्त्व का काम किया है, और औरंगज़ेब को लेकर रचे गए कई मिथकों को ध्वस्त कर दिया है. उन्हें बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  8. तिवारी जी, देख लिया। अजय जी की समीक्षात्मक टिप्पणी कविता के पक्ष में है। आपकी कविताई और कविता बहुत अच्छी है। यह मेरी कमी है कि आपकी प्रतिभा से इधर परिचित हुआ हूँ। आपको जँचे और अपनी व्यस्तता में से कुछ वक्त निकाल सकें तो एक अच्छी कविता सीरीज के रूप में इसके कुछ और हिस्से बना सकते हैं।....गणेश पाण्डेय

    उत्तर देंहटाएं
  9. कविता एक शाही फ़रमान के मद्देनज़र इतिहास की वस्तुपरक समझ और तथ्यों के विपरीत खड़ी है । लिहाजा असहमति के लिए जगह बनाती है । यह जानना दिलचस्प है कि यह कविता का चौथा ड्राफ़्ट है । हमें याद रखना चाहिए कि यह इकहरे पाठ की कविता नहीं है । साथ ही हमें आलोचक को अपनी बात कहने की छूट देना भी सीखना होगा , असहमति के तमाम बिन्दुओं के बावजूद । कवि और समीक्षक दोनों को मेरी बधाई .......नील कमल

    उत्तर देंहटाएं
  10. इतिहास की घटना को केंद्र में रखकर कोई कविता लिखना , एक प्रकार से उस तथ्य का पुनर्निर्माण करना भी होता है |खासकर ये चीज तब और कठिन हो जाती है , जब हमें ऐसे चरित्र को उद्घाटित करना होता है , जिसके लिए वह विवादास्पद रहता है |
    कविता और विचार दोनों पसंद आये ..केशव जी को बहुत बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ये विचार 'अरविन्द' जी के हैं .....

      हटाएं
  11. बहुत सुन्दर रचना , केशव जी को बधाई ..'एक रास्ता इधर से भी जाता है ..वर्तमान समय और युग को एक नयी दृष्टि देता हुआ |एक नया रास्ता दिखाता हुआ | अजय तिवारी की टिप्पड़ी 'सोने पे सुहागा ' है | बधाई |....मिनाक्षी जिजीविषा

    उत्तर देंहटाएं
  12. इतिहास न तो किसी स्मृतिधर्मी अनुगूंज का विरही प्रलाप है और न ही अतीत के इतिवृत्तों का हलफिया जीर्णोद्धार. उसके साथ जोर-ज़बरदस्ती नहीं चलती.ऐसा करने पर वह अपने खोल में जा सकता है या आप पर हमला कर सकता है. केशव यहाँ इन दोनों खतरों से बच निकले हैं. उन्होंने इस कविता में इतिहास के एकायामी और सरलीकृत विमर्श के बरक्स आग्रह, प्रतीक, व्यवस्था और आकलन के नवीन स्थापत्य के संकेत दिए हैं.......... वे बधाई के पात्र हैं.
    और हाँ, संस्मरण और समीक्षा के बीच कविता एक उद्धरण की तरह इस्तेमाल कर दी गयी है. उसका अपना स्वतंत्र संवाद धुंधला सा गया है. अजय जी एक मर्मज्ञ अध्येता हैं.
    एक बात और मैं कविता का पहला,दूसरा और तीसरा ड्राफ्ट पढ़ना चाहूंगा......

    उत्तर देंहटाएं
  13. कविता के प्रति लोगों की दिलचस्पी देखकर संतोष हुआ. जिन लोगों को मेरे विचारों से असहमति है, उनका सम्मान करता हूँ. असहमति के बिन्दुओं पर किसी लेख में विस्तार से लिख दूंगा. लोग अपने विचार मुक्त-भाव से व्यक्त करें, यह ज्यादा बड़ी बात है. अन्य मित्रों को भी रचना के माध्यम से प्रतिरोध का रास्ता अपनाना चाहिए.

    उत्तर देंहटाएं
  14. लाजवाब सांप्रदायिक ताककतों पर सीधा प्रहार और प्रहार उन झूठे इतिहास कारों पर जिन्होंने झूठी भ्रांतियों से लोगों को भ्रमित किया इस पोस्ट के लिये आपको धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत अच्छी कविता. प्रस्तुति के लिए धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  16. बेनामी10:36 am, मई 12, 2013

    औरंगजेब ने बहुत से हिन्दुओं की मारी थी, ये मंदिर उनके पिछवाड़े पे मलहम का काम करेगा, इसे ज्यादा से ज्यादा share करें

    उत्तर देंहटाएं